Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Feb 15, 2017

ढल गया दिन हो गयी शाम -फिल्म : हमजोली [१९७०]

फिल्म : हमजोली [१९७०]
गीतकार-आनंद बक्षी
संगीतकार-लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल
मूल गायक -मो .रफ़ी और आशा भोसले
अभिनेता जीतेन्द्र और लीना चंद्रावरकर पर   फिल्माया गया

==============================


  Sung by Safeer & Alpana
==============================
MP3 download or Play here

==============================
ढ़ल  गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है..
अभी अभी तोआई हो अभी अभी जाना है
ढ़ल गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है
अभी अभी तो आई हो अभी अभी जाना है
ढ़लगया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है

१-सितम मेरे दिल पे जो ढाए कसम लगे उसको मेरी जो जाए..
ना ऐसे  देखो मुझे ना टोको ज़रा यह सोचो बुरा ज़मान है
ढ़ल गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है

2-गुज़ारी साथ हमने कई रातें  ना जाने कब ख़तम होगी तेरी बातें ..
अभी ना जाना कोई तराना कोई फ़साना अभी सुनना है
ढ़ल गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है.......

3-बनाते हो यह रोज ही बहाना ना जाने ना देगा आज यह दीवाना..
माना जी माना  तू है दीवाना मेरा दीवाना बड़ा सयाना है
ढ़ल गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है
अभी अभी तो आई हो अभी अभी जाना है
ढ़ल गया दिन हो गयी शाम जाने दो जाना है...
==========================
==========================

No comments: