Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Feb 18, 2017

मैं प्यार का राही हूँ -फिल्म :एक मुसाफिर एक हसीना (1962)

फिल्म -एक मुसाफिर एक हसीना (1962)
गीतकार -राजा मेहदी अली खान
संगीतकार-ओ.पी.नैय्यर
मूल गायक-मो रफ़ी और आशा भोसले
--------------------------------------------------------------
प्रस्तुत गीत में स्वर -Safeer Ahmad & Alpana Verma
==================================

==================================
MP3 Download & Play here
-----------------------------------------
Main pyar ka raahi hun-Song-Lyrics
---------------------------------------------
मैं प्यार का राही हूँ, तेरी ज़ुल्फ के साए में
कुछ देर ठहर जाऊँ
तुम एक मुसाफिर हो, कब छोड़ के चल दोगे
ये सोच के घबराऊँ

१.तेरे बिन  जी लगे ना अकेले
हो सके तो मुझे साथ ले ले
नाज़नीं तू नहीं जा सकेगी
छोड़कर जिन्दगी के झमेले
जब भी छाये घटा, याद करना ज़रा
सात रंगों की हूँ मैं कहानी
मैं प्यार का राही हूँ...

2.प्यार की बिजलियाँ मुस्कुराये
देखिये आप पर गिर ना जाएँ
दिल कहे देखता ही रहूँ मैं
सामने बैठकर ये अदाएं
ना मैं हूँ नाज़नीं, ना मैं हूँ माजबी
आप ही की नजर हैं दीवानी
मैं प्यार का राही हूँ...

-------------------------------------------------
=============================

No comments: