Featured Post

एक लड़की भीगी भागी सी ...स्वर -अल्पना

गीतकार-मजरूह सुल्तानपुरी

May 5, 2011

तेरी आंखों के सिवा -Cover Version


फिल्म : चिराग
संगीतकार : मदन मोहन
गीतकार : मजरूह सुल्तानपुरी
मूल गायिका :लता

cover version-Alpana

तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है
ये उठें सुबह चले, ये झुकें शाम ढले
मेरा जीना मेरा मरना इन्हीं पलकों के तले
तेरी आँखों के सिवा ...

1-ये हों कहीं इनका साया मेरे दिल से जाता नहीं
इनके सिवा अब तो कुछ भी नज़र मुझको आता नहीं
ये उठें सुबह चले ...

2-ठोकर जहाँ मैने खाई इन्होंने पुकारा मुझे
ये हमसफ़र हैं तो काफ़ी है इनका सहारा मुझे
ये उठें सुबह चले ...
तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रक्खा क्या है

मेरी आवाज़ में सुनिये ये गीत-:
Recorded in July 2008



Download or Play

May 4, 2011

मेरे हाथ में तेरा हाथ हो[cover song]



गीत : मेरे हाथ में तेरा हाथ हो
फिल्म-फना
गीतकार-प्रसून जोशी
संगीतकार-जतिन-ललित
मूल गायक-सोनू निगम ,सुनिधि चौहान
Cover version of the song by --Raja Pahwa &Alpana

Download Or Play





'मेरे हाथ में तेरा हाथ हो,सारी जन्नतें मेरे साथ हों,
तू जो साथ हो फिर क्या ये जहाँ तेरे प्यार में हो जाऊं फना,'
तेरे दिल में मेरी साँसों को पनाह मिल जाये
तेरे इश्क में मेरी जान फना हो जाये


जितने पास हैं खुश्बु सांस के
जितने पास होंठों के सरगम
जैसे साथ हैं करवट याद के
जैसे साथ बाहों के संगम
जितने पास पास ख़्वाबों के नज़र
उतनी पास तू रहना हमसफ़र
तू जो पास हो फिर क्या यह जहाँ
तेरे प्यार में हो जाऊं फना
मेरे हाथ में तेरा हाथ हो सारी जन्नतें मेरे साथ हो

रोने दे आज हमको दो आँखें सुजाने दे
बाहों में लेने दे और खुद को भीग जाने दे
हैं जो सीने में क़ैद दरिया वोह छूट जाएगा
हैं इतना दर्द के तेरा दामन भीग जाएगा


जितने पास पास धड़कन के हैं राज़
जितने पास बूंदों के बादल
जैसे साथ है चन्दा रात के
जितने पास नैनों के काजल
जितने पास पास सागर के लहर
उतने पास तू रहना हमसफ़र
तू जो पास हो फिर क्या यह जहाँ
तेरे प्यार में हो जाऊं फना
मेरे हाथ में तेरा हाथ हो सारी जन्नतें मेरे साथ हो

अधूरी सांस थी धड़कन अधूरी थी अधूरें हम
मगर अब चांद पूरा हैं फलक पे और अब पूरें हैं हम