Featured Post

सजनवा बैरी हो गए हमार...

सजनवा बैरी हो गए  फिल्म-तीसरी कसम  मूल गायक-मुकेश प्रस्तुत गीत कवर संस्करण है. स्वर-अल्पना वर्मा  गीत के बोल-   सजनवा बैरी हो ग...

Mar 26, 2017

दो घड़ी वो जो पास आ बैठे-फ़िल्म-गेटवे ऑफ़ इंडिया [1957]

फ़िल्म-गेटवे ऑफ़ इंडिया [1957]
संगीतकार - मदन मोहन
गीतकार -राजेंद्र कृष्ण
मूल गायक - मोहम्मद रफी लता मंगेशकर

Mar 23, 2017

धीरे धीरे चल चाँद गगन में-फ़िल्म: लव मैरिज (1959)

फ़िल्म: लव मैरिज (1959)
गायक: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: शंकर-जयकिशन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: देव आनंद, माला सिन्हा

Mar 16, 2017

एक सवाल मैं करूँ एक सवाल तुम - फिल्म: ससुराल [१९६१]

फ़िल्म: ससुराल [१९६१]
मूल गायक मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार:शंकर - जयकिशन
गीतकार:शैलेन्द्र
============================

 =============================
MP3 Download or Play
=============================
Cover singers- Safeer and Alpana
----------------------------------------------------
Lyrics
-----------------------------
एक सवाल मैं करूँ एक सवाल तुम करो
हर सवाल का सवाल ही जवाब हो
एक सवाल मैं करूँ ...

प्यार की बेला साथ सजन का फिर क्यों दिल घबराये
नैहर र से घर जाती दुल्हन क्यों नैना छलकाये
है मालूम कि जाना होगा, दुनियाँ एक सराय
फिर क्यों जाते वक़्त मुसाफ़िर रोये और रुलाये
- फिर क्यों जाते वक़्त मुसाफ़िर रोये और रुलाये!
एक सवाल मैं करूँ ...

चाँद के माथे दाग है फिर भी चाँद को लाज न आये
उसका घटता बढ़ता चेहरा क्यों सुन्दर कहलाये
काजल से नैनों की शोभा क्यों दुगुनी हो जाये
गोरे गोरे गाल पे काला तिल क्यों मन को भाये
- गोरे गोरे गाल पे काला तिल क्यों मन को भाये
एक सवाल मैं करूँ ...

उजियारे में जो परछाई पीछे पीछे आये
वही अन्धेरा होने पर क्यों साथ छोड़ छुप जाये
सुख में क्यों घेरे रहते हैं अपने और पराये
बुरी घड़ी में क्यों हर कोई देख के भी क़तराये
- बुरी घड़ी में क्यों हर कोई देख के भी क़तराये
एक सवाल मैं करूँ ...

==============================
.

Mar 15, 2017

एक डाल पे तोता बोले -फिल्म: चोर मचाए शोर-[1974]

फ़िल्म:
गायक: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: रवींद्र जैन
गीतकार:इंद्रजीत सिंह तुलसी
अदाकार:शशि कपूर और मुमताज़
=======================

 =============================
MP3 Download or Play
=============================
Cover singers- Safeer and Alpana
----------------------------------------------------

-----------------------------
एक डाल पर तोता बोले
एक डाल पर तोता बोले
एक डाल पर मैना
दूर दूर बैठे है लेकिन
प्यार तो फिर भी है न
बोलो है न, है न है न
ओ एक डाल पर तोता बोले,
एक डाल पर मैना
मैं तेरे नैनो की निंदिया,
तू मेरे दिल का चैना
बोलो है न, है न है न
एक डाल पर तोता बोले

ये क्या मुझको हो गया साजन
कभी रोऊँ कभी गाउँ
पेड़ से लिपटी बेल जो देखूं
लाज से मर मर जाऊँ
ये पागलपन कैसा
कब से हो गया ऐसा
बिन बतलाये समझो साजन
आज नहीं कुछ कहना
बोलो है न, है न है न
है न
एक डाल पर तोता बोले

आँधी आये तूफ़ान आये
या बरसे, बरसाते
एक दूजे में खो जाये हम
खत्म न हो दिन राते
खत्म न हो दिन राते
मीठी प्यार की बातें
होंठ अगर खामोश रहें तो
बोल उठेंगे नैना
बोलो है न, है न है न
है न
एक डाल पर तोता बोले

जनम जनम रे साजन,
पल में बुझेगी कैसे
जीवन भर ये संग न छूटे,
अंग लगा तो ऐसे
आ मिल जाएँ ऐसे,
सागर नदिया जैसे
सिख लिया है प्यार में हमने,
मिटाकर ज़िंदा रहना
बोलो है न, है न है न

एक डाल पर तोता बोले,
एक डाल पर मैना
दूर दूर बैठे है लेकिन,
प्यार तो फिर भी है न
बोलो है न, है न है न

==============================
.

Mar 12, 2017

दिल पुकारे आरे आ रे आरे - फिल्म: ज्वेल थीफ़(१९६७ )

फ़िल्म: ज्वेल थीफ़(१९६७ )
गायक: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार:सचिन देव बर्मन
गीतकार:आनंद बक्षी
अदाकार:देव आनंद और वैजंतीमाला
============================

=============================
MP3 Download or Play
=============================
Cover singers- Safeer and Alpana
----------------------------------------------------
Dil pukare aa re aa re aare
-----------------------------
दिल पुकारे, आ रे आ रे आ रे –
अभी ना जा मेरे साथी
दिल पुकारे, आरे आरे आरे
ओ… अभी ना जा मेरे साथी
दिल पुकारे आ रे आ रे आ रे

1.बरसों बीते दिल पे काबू पाते
हम तो हारे तुम ही कुछ समझाते
समझाती मैं तुमको लाखों अरमां
खो जाते हैं लब तक आते आते
ओ… पूछो ना कितनी, बातें पड़ी हैं
दिल में हमारे
दिल पुकारे, आ रे आ रे आ रे

2.पाके तुमको है कैसी मतवाली
आँखें मेरी बिन काजल के काली
जीवन अपना मैं भी रंगीन कर लूँ
मिल जाये जो इन होठों की लाली
ओ… जो भी है अपना, लायी हूँ सब कुछ
पास तुम्हारे
दिल पुकारे, आ रे आ रे आ रे

3.महका महका आँचल हल्के हल्के
रह जाती हो क्यों पल्कों से मलके
जैसे सूरज बन कर आये हो तुम
चल दोगे फिर दिन के ढलते ढलते
ओ… आज कहो तो मोड़ दूं बढ़के
वक़्त के धारे
दिल पुकारे, आ रे आ रे आ रे
ओ… अभी ना जा मेरे साथी
दिल पुकारे आरे आरे आरे
अभी ना जा मेरे साथी
दिल पुकारे आ रे आ रे आ रे

==============================
.

Mar 10, 2017

देखो रूठा ना करो-फ़िल्म: तेरे घर के सामने (1963)

फ़िल्म: तेरे घर के सामने  (1963)
गायक: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
संगीतकार: सचिन देव बर्मन
गीतकार: हसरत जयपुरी
अदाकार: देव आनंद, नूतन
====================================


===================================
MP3 Download or Play
=============================
Cover singers- Safeer and Alpana
----------------------------------------------------
Dekho rutha na karo-Lyrics
-----------------------------
देखो रूठा ना करो, बात नज़रों की सुनो
हम ना बोलेंगे कभी, तुम सताया ना करो

1.चेहरा तो लाल हुआ, क्या क्या हाल हुआ
इस अदा पर तेरी, मैं तो पामाल  हुआ
तुम बिगड़ने जो लगो,  और भी हंसीं लगो
हम न बोलेंगे कभी, तुम सताया ना करो
देखो रूठा ना करो...

2.जान पर मेरी बनी, आपकी ठहरी हंसी
हाय मैं जान गई, प्यार की चिकनागरी
दिल जलाने के लिये, ठंडी आहें न भरो
देखो रूठा ना करो...

3.तेरी खुशबू ने मेरे, होश भी छीन लिये
है खुशी आज हमें, तेरे पहलू में गिरे
दिल की धड़कन पे ज़रा, फूल सा हाथ रखो
हम न बोलेंगे कभी...
4.क्या कहेगा ये समा, इन राहों का धुँआ
लाज आए मुझे, मुझको लाए हो कहाँ
हम तुम्हें मान गए, तुम बड़े वो हो हटो
देखो रूठा ना करो...
==============================
.

Mar 8, 2017

छोड़ कर तेरे प्यार का दामन -फिल्म: वो कौन थी [१९६४]

फिल्म: वो कौन थी [१९६४]
गीतकार :राजा मेहदी अली खान
संगीतकार :मदन मोहन
मूल गायक -लता मंगेशकर और मो. रफ़ी
============================================

============================================
This cover song is sung by Safeer and Alpana
---------------------------------------------------
Mp3 Download Or Play here
---------------------------------------------------

Lyrics-
------------
छोड़कर तेरे प्यार का दामन ये बता दे के हम किधर जाएँ
हम को डर है के तेरी बाहों में , हम खुशी से ना आज मर जाएँ

१.मिल गए आज काफिले दिल के, हम खड़े हैं  करीब मंजिल के
मुस्कराकर  जो तुम ने देख लिया, मिट गए हँस के सब गिले दिल के
कितनी प्यारी है ये हसीं घड़ियाँ , इन से कह दो यहीं ठहर  जाएँ

2.तेरे कदमो पे जिन्दगी रख दूँ  अपनी आंखों की रोशनी रख दूँ
तू अगर खुश हो मै तेरे दिल में अपने दिल की हर इक खुशी रख दूँ
मेरे हमदम मेरी खुशी ये है, तू नजर आये, हम जिधर जाएँ
3.देखकर प्यार इन निगाहों में
दीप से जल गए हैं राहों में
तुमसे मिलते न हम तो ये दुनिया दूब जाती हमारी आहों में
अपनी आहों से आज ये कह दो
अब न होठों पे उम्र भर आएँ


छोड़कर तेरे प्यार का दामन ये बता दे के हम किधर जाएँ
हम को डर है के तेरी बाहों में , हम खुशी से ना आज मर जाएँ
--------------------------------------
--------------------------------------

Mar 6, 2017

तुम्हारी नज़र क्यूँ खफा हो गई -फिल्म: दो कलियाँ [१९६८]

फिल्म: दो कलियाँ [१९६८]
गीतकार :साहिर लुधयानवी
संगीतकार :रवि
मूल गायक -लता मंगेशकर और मो. रफ़ी
==============================

==============================
Mp3 Download Or Play here
==============================
Cover singers -Safeer and Alpana
--------------------------------------------------
Lyrics-
------------
तुम्हारी नज़र क्यूँ खफा हो गई
ख़ता बख़्श दो गर ख़ता हो गई
हमारा इरादा तो कुछ भी ना था
तुम्हारी खता खुद सज़ा हो गई

 १.सज़ा  ही सही अज कुछ तो मिला है,
 सज़ा मे भी इक प्यार का सिलसिला है..
मोहब्बत का अब कुछ भी अंजाम हो
मुलाक़ात की इब्तिदा हो गई

2.मुलाक़ात पे इतने मगरूर क्यों  हो,
हमारी खुशामद पे मजबूर क्यों  हो..
मनाने की आदत कहाँ पड़ गयी
सताने की  तालीम क्या हो गई

3.सताते ना हम तो मानते ही कैसे,
तुम्हे अपने नज़दीक लाते  ही कैसे..
इसी दिन का चाहत को अरमान था
क़ुबूल आज दिल की दुआ हो गई

तुम्हारी नज़र क्यूँ खफा हो गई
खता बख्श दो ग़र खता हो गई
--------------------------------------
=======================

Mar 2, 2017

वो हैं ज़रा खफ़ा खफा -फिल्म: शागिर्द [१९६७]

फिल्म-शागिर्द [१९६७]
संगीतकार -लक्ष्मीकान्त प्यारेलाल
गीतकार -मजरूह सुल्तानपुरी
मूल गायक -लता मंगेशकर और मो. रफ़ी

=================================

=================================
MP3 Download or Play here
-------------------------------------------------------
Singers of this version- Safeer and Alpana
=================================
वो हैं ज़रा खफा ख़फा तो नैन यूँ चुराए हैं
के हो ...ना बोल दूँ तो क्या करूँ
वो हँस के यूँ बुलाए हैं..के हो

१.हँस रही है चांदनी
मचल के रो ना दूँ कहीं
ऐसे कोई रूठता नहीं
ये तेरा ख़याल है
करीब आ मेरे हसीं
मुझको तुझसे कुछ गिला नहीं
बात यूँ बनाए हैं
के हो..
2.फूल को महक मिले
ये रात रंग में ढले
मुझसे तेरी जुल्फ गर खुले
तुम ही मेरे संग हो
गगन की छाँव के तले
ये रुत यूँ ही भोर तक चले
प्यार यूँ जताए हैं
के हो…
3.ऐसे मत सताइए
ज़रा तरस तो खाइए
दिल की धड़कन मत जगाइए
कुछ नहीं कहूँगा मैं
ना अन्खड़ियाँ झुकाइए
सर को काँधे से उठाइये
ऐसे नींद आये है
के हो..हो.....
वो हैं ज़रा खफा ख़फा...............
========================
========================

Mar 1, 2017

चलो दिलदार चलो -फिल्म: पाकीज़ा (1972)


फ़िल्म –  पाकीज़ा  (1972)
 मूल गायक – मोहम्मद रफ़ी और लता मंगेशकर 
संगीतकार –ग़ुलाम मोहम्मद
 गीतकार – कैफ़ भोपाली
================================================


===============================================
Cover sung by Safeer and Alpana
---------------------------------------------------
Download or Play Mp3 here
==========================
Lyrics-Chalo dildar chalo
---------------------------------------------
चलो दिलदार चलो, चाँद के पार चलो
हम हैं तैयार चलो

१.आओ खो जाएँ सितारों में कहीं
छोड़ दे आज दुनियाँ ये ज़मीं
चलो दिलदार चलो…

2.हम नशे में हैं संभालो हमें तुम
नींद आती है जगा लो हमें तुम
चलो दिलदार चलो…

3.ज़िन्दगी ख़त्म भी हो जाये अगर
ना कभी ख़त्म हो उल्फत का सफ़र
चलो दिलदार चलो

=============================
=============================