Featured Post

Brishti Brishti Brishti [Bengali] Cover-बृष्टि -बृष्टि ..

Aparna Sen Brishti Brishti Brishti Aye kono porob srishti Film-Shonar Kancha Original Singer-Lata Picturised on Aparna Sen and Utta...

Mar 29, 2017

तम्मनाओं के बहलावे में..[Ghazal]

Lyricist--अली सरदार जाफ़री
Music-Jageet Singh
Original Singer-Chitra Singh
Cover sung by Alpana Verma

================
Lyrics-
तम्मनाओं के बहलावे में अक्सर आ ही जाते हैं
कभी हम चोट खाते हैं, कभी हम मुस्कुराते हैं

हम अक्सर दोस्तों की बेवफाई सह तो लेते हैं
मगर हम जानते हैं, दिल हमारे टूट जाते हैं

किसी के साथ जब बीते हुए लम्हों की याद आई
थकी आँखों में अश्क़ों के सितारे झिलमिलाते हैं

ये कैसा इश्तियाक़-ए-दीद  है और कैसी मजबूरी
किसी की बज़्म तक जा जा के हम क्यों लौट आते हैं

======================================
MP3 Play here


===========================================
=======================================

No comments: