Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jan 17, 2017

जहाँ मैं जाती हूँ -फिल्म-चोरी चोरी

फिल्म-चोरी चोरी  [१९५६]
गीतकार : शैलेन्द्र
संगीतकार: शंकर -जयकिशन
मूल गायक- मन्ना डे और लता

==============

 कवर गायक- सफ़ीर और अल्पना
MP3 Download or Play Here
===============
गीत के बोल
-------------
जहाँ मैं जाती हूँ वहीं चले आते हो
चोरी-चोरी मेरे दिल में समाते हो
ये तो बताओ कि तुम, मेरे कौन हो

दिल से दिल की लगन की ये बात है
प्यार की राह जतन की ये बात है
मुझसे न पूछो कि तुम, मेरे कौन हो

१.मैं तो शोर मचाऊँगी, शोर मचाऊँगी
करनी तुम्हारी सबको बताऊँगी
खैर जो चाहो चले जाओ मेरे दर से
छोड़ो ये आना-जाना दिल की डगर से
ये तो बताओ...

२.मैंने क्या बुरा किया है, क्या बुरा किया है
दिल दे कर ही दिल ले लिया है
किसी बड़े ज्ञानी-ध्यानी को बुलाओ
अभी अभी यहीं फ़ैसला कराओ
मुझसे न पूछो...

३.दिल ही जब हुए दीवाने, जब हुए दीवाने
कहना हमारा ,अब कौन माने

जहाँ मैं जाती हूँ वहीँ चले आते हो
चोरी-चोरी मेरे दिल में समाते हो
ये तो बताओ कि तुम, मेरे कौन हो
हमसे न पूछो के मेरे कौन हो I
======================
======================

No comments: