Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jul 8, 2012

चिठ्ठी ना कोई संदेस़ -Cover by Alpana




गीतकार :आनंद बक्षी
संगीतकार :उत्तम सिंह
चित्रपट :दुश्मन - 1998
Original Singer-Lata
Presenting cover version -vocals-Alpana
Thanks to  Arvind Sharman ji for track Mixing  in his Mumbai studio.


चिठ्ठी ना कोई संदेस़ जाने वो कौन सा देस
जहां तुम चले गए
इस दिल pe लगा के ठेस़ ,जाने वो कौन सा देस
जहां तुम चले गए

एक आह भरी होगी़ हम ने ना सुनी होगी
jaate jaate तुम ने आवाज तो दी होगी
हर वक्त यही हैं गम़ उस वक्त कहा थे हम़ कहा तम चले गए

हर चीज pe अश्कों से likha हैं तुम्हारा नाम
ये रस्तो घर गलीयॉं तुम्हें कर ना सके सलाम
हाए दिल में रह गयी बात जल्दी से छुडाकर हाथ़ कहा तुम चले गए

अब यादों के कांटे़ इस दिल में चुभते  हैं
ना दर्द ठहरता है़ ना आंसू रुकते  हैं
तुम्हें ढूंढ रहा हैं पयाऱ हम कैसे करे इकरार के ,हा तुम चले गए
चिठ्ठी ना कोई संदेस़ जाने वो कौन सा देस
जहां तुम चले गए
download Or Play

2 comments:

Ramakant Singh said...

लता जी के गए गीत को बड़ी खूबसूरती से निभाया है आपने बधाई ..

अल्पना वर्मा said...

Thanks Ramakant ji.