Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jul 24, 2012

जब चली ठंडी हवा cover song





गीतकार- शकिल बदायुनी
मूल गायिका - आशा भोसले
संगीतकार- रवि
फिल्म - दो बदन [ 1966] अभिनेत्री -आशा पारेख
Presenting Cover song
गीत-
जब चली ठंडी हवा, जब उठी काली घटा
मुझको ऐ जान-ए-वफ़ा तुम याद आये

1-जिन्दगी की दास्ताँ, चाहे कितनी हो हँसी
बिन  तुम्हारे कुछ नहीं
क्या मजा आता सनम, आज भूले से कही
तुम भी आ जाते यही
ये बहारें  ये फिज़ा, देखकर ओ दिलरुबा
जाने क्या दिल को हुआ, तुम याद आये
.....
2-ये नज़ारे ये समा और फिर इतने जवान
हाय रे ये मस्तियाँ
ऐसा लगता हैं मुझे, जैसे तुम नजदीक हो
इस चमन से जान-ए-जान
सुन के पी-पी की सदा, दिल धड़कता हैं मेरा
आज पहले से सिवा, तुम याद आये

जब चली ठंडी हवा....
Mp3 download here
स्वर-अल्पना
Recorded again...

4 comments:

Ramakant Singh said...

अद्भुत गायन शकील जी रवि साहब और आशा जी का सुन्दर संजोग .

सतीश चंद्र सत्यार्थी said...

बहुत सुन्दर...

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

शानदार।

मंगेशकर बहनों के गाए किसी भी गीत को दोहराना किसी किले को फतह करने जैसा काम है।

आपने काफी हद तक कर भी लिया... :)

अल्पना वर्मा said...

Thanks..yeh gana wakyee kathin lagaa mujhe!:)