Featured Post

एक लड़की भीगी भागी सी ...स्वर -अल्पना

गीतकार-मजरूह सुल्तानपुरी

Nov 11, 2009

13-मुझ को इस रात की तनहाई

फ़िल्म-'दिल भी तेरा हम भी तेरे'
मूलगायिका -लता
संगीतकार कल्याणजी-आनंदजी
गीतकार-शमीम जयपुरी

मुझ को इस रात की तनहाई में आवाज़ न दो
जिसकी आवाज़ रुला दे मुझे वो साज़ न दो
आवाज़ न दो...

मैंने अब तुम से न मिलने की कसम खाई है
क्या खबर तुमको मेरी जान पे बन आई है
मैं बहक जाऊँ कसम खाके तुम ऐसा न करो
आवाज़ न दो...

दिल मेरा डूब गया आस मेरी टूट गई
मेरे हाथों ही से पतवार मेरी छूट गई
अब मैं तूफ़ान में हूँ साहिल से इशारा न करो
आवाज़ न दो...
मुझ को इस रात की तनहाई में आवाज़ न दो
जिसकी आवाज़ रुला दे मुझे वो साज़ न दो
आवाज़ न दो...

Karaoke singer-Alpana

Download or Play

6 comments:

Udan Tashtari said...

सुन्दर गीत एवं उम्दा गायन!!

aarya said...

अल्पना जी
आप तो सागर से मोती ढूढ़ने का काम कर रहीं हैं , बहुत सुन्दर.
रत्नेश त्रिपाठी

काजल कुमार Kajal Kumar said...

वाह.

खुशदीप सहगल said...

आवाज़ देकर हमें तुम बुलाओ
मुहब्बत में इतना हमें न तड़पाओ...

जय हिंद...

seema gupta said...

beautiful....

regards

शोभना चौरे said...

vah alpnaji
aapne to meri pasand ka geet sunakar
mujhe bhigo diya apni meethi aavaj me bahut aannd aa gya
abhar