Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jul 5, 2013

रिमझिम गिरे सावन-स्वर-अल्पना


फिल्म-मंजिल
संगीत- राहुल देव  बर्मन
गीत-योगेश
मूल गायक-किशोर कुमार

कवर संस्करण  प्रस्तुति --अल्पना
चूँकि यह ट्रेक किशोर कुमार  जी के गाये गीत  का है तो  बोल
भी वही गाये हैं.

रिमझिम गिरे सावन,सुलग सुलग जाए मन
भीगे आज इस मौसम में,लगी कैसी यह अगन
रिमझिम गिरे सावन

१-जब घुंघरूओं  सी बजती हैं बूँदें
अरमा हमारे पलकें ना मूंदें
कैसे देखें सपने नयन
........................
रिमझिम गिरे सावन

२-महफ़िल में कैसे कह दें किसीसे
दिल बंध रहा है किसी अजनबी से

हाए करें अब क्या जतन

रिमझिम गिरे सावन,सुलग सुलग जाए मॅन
भीगे आज इस मौसम में,लगी कैसी यह अगन
रिमझिम गिरे सावन

Cover version Sung by Alpana 

---------
player