Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jul 24, 2011

तुमने पिया दिया सब कुछ

.

 एक गीत जो मुझे बहुत पसंद है..फिल्म भी बहुत अच्छी थी,लेकिन शायद चली नहीं
लता जी के बेहतरीन गीतों में से एक यह गीत लगता है मुझे.
इस का फिल्मांकन भी बहुत ही खूबसूरती से हुआ है.
भावपूर्ण गीत ..
फिल्म--उस पार[1974]
संगीत-सचिन देव बर्मन ,गीत-योगेश ,अभिनेत्री मौशमी चेटर्जी

तुमने पिया दिया सब कुछ मुझको अपनी प्रीत दये के
राम  करे यूँ ही बीते जीवन तुम्हरे गीत गए के,

मैं तो हूँ भोली ऐसे भोली पिया..जैसे थी राधिका कान्हा की प्रेमिका,
श्याम कहीं बन जयीयो न तुम मेरी सुध भुलाये के,
तुमने पिया...

मेरे मितवा रे मिले जब से तुम मुझे बिंदिया माथे सजे,पायल मेरी बजे,
मांग भरे मेरी निस दिन अब सिंदूरी सांझ आई के .

तुमने पिया दिया....
मूल गीत आप यू ट्यूब पर देख सकते हैं.यहाँ  गीत मेरे स्वर में है -बिना संगीत-
MP3 download / play
-------------------



2 comments:

Arvind Mishra said...

सुन्दर कर्णप्रिय गीत !

जयकृष्ण राय तुषार said...

बहुत ही मोहक संगीत अल्पना जी बधाई |