Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Mar 19, 2013

जाएँ तो जाएँ कहाँ


फिल्म-टैक्सी ड्राईवर [१९५४]
मूल गायक-तलत महमूद
संगीत-सचिन देव बर्मन
गीतकार-साहिर लुध्यानवी
Lyrics-
जाएँ तो जाएँ कहाँ

समझेगा कौन यहाँ दर्द भरे दिल की जुबाँ

जाएँ तो जाएँ कहाँ

1-मायूसियों का मजमा है जी में

क्या रह गया है इस ज़िन्दगी में

रुह में ग़म ,दिल में धुआँ...जाएँ तो जाएँ कहाँ

2-उनका भी ग़म है अपना भी ग़म है

अब दिल के बचने की उम्मीद कम है

एक किश्ती सौ तूफ़ाँ.....जाएँ तो जाएँ कहाँ

 प्रस्तुत गीत--स्वर -अल्पना

No comments: