Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Mar 21, 2013

जा रे कारे बदरा ...फिल्म-धरती कहे पुकारे के.

Nanda

संगीतकार -लक्ष्मीकांत प्यारेलाल
गीतकार-मजरूह सुल्तानपुरी
फिल्म-धरती कहे पुकार के [१९६९]
मूल गायिका-लता मंगेशकर

प्रस्तुत गीत कवर संस्करण है.

Lyrics-
जा रे कारे बदरा बलम के द्वार..
वो हैं ऐसे बुद्धू न समझे रे प्यार

1-किन की पलक से पलक मोरी उलझी
निपट अनाड़ी से लट मोरी उलझी
के लट उलझा के मैं तो गई हार
वो हैं ऐसे ...
जा रे कारे ..

2-अंग उन्ही की लहरिया समायी
कबहूँ न पूछे लूँ काहे अंगडाई
के सौ-सौ बल खा के मैं तो गई हार
वो हैं ऐसे ..

3-थाम लो बैयाँ चुनर समझावे
गरबा लगा लो कजर समझावे
के सब समझा के मैं तो गई हार
वो हैं ऐसे ....
जा रे कारे बदरा बलमा के द्वार
वो हैं ऐसे बुद्धू न समझे रे प्यार

Cover song -स्वर----अल्पना
Mp3 download or play

No comments: