Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Dec 23, 2012

तुम मुझे यूँ भुला न पाओगे

गीत-तुम मुझे यूँ भुला न पाओगे
संगीत-शंकर -जयकिशन
गीतकार-हसरत जयपुरी
मूल गायिका-लता मंगेशकर


गीत के बोल
-------------
तुम मुझे यूँ भुला ना पाओगे
जब कभी भी सुनोगे गीत मेरे
संग -संग तुम भी गुनगुनाओगे

1-बीती बातों का कुछ ख़याल करो
कुछ तो बोलो कुछ हमसे बात करो
राज़ेदिल मैं तुम्हें बता दूँगी
मैं तुम्हारी हूँ मान जाओगे
तुम मुझे यूँ........

2-मेरी खामोशियों को समझो तुम
ज़िन्दगी याद में गुजारी है
मैं मिटी हूँ तुम्हारी   चाहत में
और कितना मुझे मिटाओगे
तुम मुझे यूँ.......

3-दिल ही दिल में तुम्हीं से प्यार किया
अपने जीवन को भी निसार किया
कौन तड़पा तुम्हारी राहों में
जब ये सोचोगे जान जाओगे
तुम मुझे यूँ.......

To play or download click here





प्रस्तुत गीत  कवर संस्करण है.
स्वर--अल्पना

No comments: