Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Dec 3, 2011

तुम्हीं मेरे मंदिर तुम्हीं मेरी पूजा


तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम्हीं देवता हो
कोई मेरी आँखों से देखे तो समझे, कि तुम मेरे क्या हो
 

तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम्हीं देवता हो

१-जिधर देखती हूँ उधर तुम ही तुम हो
न जाने मगर किन खयालों में गुम हो
मुझे देखकर तुम ज़रा मुस्कुरा दो
नहीं तो मैं समझूँगी, मुझसे ख़फ़ा हो
तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम्हीं देवता हो

२-तुम्हीं मेरे माथे की बिंदिया की झिल-मिल
तुम्हीं मेरे हाथों के गजरों की मंज़िल
मैं हूँ एक छोटी-सी माटी की गुड़िया
तुम्हीं प्राण मेरे, तुम्हीं आत्मा हो
तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम्हीं देवता हो

३-बहुत रात बीती चलो मैं सुला दूँ
पवन छेड़े सरगम  मैं लोरी सुना दूँ
तुम्हें देखकर यह ख़याल आ रहा है
कि जैसे फ़रिश्ता कोई सो रहा है
 

तुम्हीं मेरे मंदिर, तुम्हीं मेरी पूजा, तुम्हीं देवता हो

फिल्म-खानदान ,
मूल गायिका -लता ...
प्रस्तुत है कवर संस्करण -स्वर -अल्पना 





Download or Play MP3 here

11 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

बड़ा मधुर..

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत प्यारा लग रहा है आपकी आवाज़ मे यह गाना।

सादर

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

बहुत अच्छा बन पडा है यह गीत....

ब्लॉग भ्रमण करता और पढता रहा और आपके गाये गीत लगभग घंटे भर से लगातार बज रहे हैं.... बहुत प्यारे गीतों का सुन्दर कलेक्सन बना लिया है आपने.... दोगाने में भी आवाज बहुत सुन्दर है...
सादर धन्यवाद और बधाइयां....

प्रकाश गोविन्द said...

बहुत सुन्दर कर्णप्रिय
आपने बहुत सलीके से गाया है
-
-
हार्दिक बधाई
आभार

kshama said...

Bahut sundar!

rajesh sehrawat said...

bahut pyri aawaz

Arvind Mishra said...

एक प्यारा सा गीत !

सदा said...

बेहद मधुर ...

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...

.



प्रिय अल्पना जी

मैं इस गीत को बहुत तबीयत से सुन कर कमेंट लिख कर गया था … पता नहीं मेरे कमेंट का क्या हुआ …


मेरी पसंद के इस मधुरतम गीत के लिए आभारी हूं …

नव वर्ष 2012 के लिए अग्रिम बधाई और मंगलकामनाएं !
- राजेन्द्र स्वर्णकार

अल्पना वर्मा said...

गीत पसंद करने के लिए आप सभी का दिल से आभार..
.....
@संजय मिश्र जी आप ने घंटे भर से मेरे गाये अन्य गीत भी सुने..जानकर बेहद खुशी हुई.प्रयास रहेगा कि आगे भी अच्छे गीत सुना सकूँ.

अल्पना वर्मा said...

@राजेंद्र जी ..मालूम नहीं आप का कमेन्ट कहाँ गया ..!स्पैम में भी चेक किया कहीं नहीं मिला..आप की दी गयी नव वर्ष की अग्रिम शुभकामनाओं हेतु आभार.