Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Dec 29, 2011

सुहानी चाँदनी रातें हमें [फिल्म-मुक्ति]



सुहानी चाँदनी रातें हमें सोने नहीं देतीं,
तुम्हारे प्यार की बातें हमें सोने नहीं देतीं.
एक बहुत ही प्यारा सा गाना....जिसे सुनते है तो गुनगुनाने का दिल करता ही है...बस ऐसा ही कुछ गुनगुनाना यहाँ मेरे स्वर में है...
गीत के मूल गायक -मुकेश, गीतकार-आनंद बक्षी, संगीत-राहुलदेव बर्मन.
फिल्म-मुक्ति  (1977) 
Download or play MP3 here



4 comments:

safeer said...

Zabardast !!! aap ki awaz men ye mukeshji ka gana sun kar aisa laga ke kisi darya ke kinare suhani chandni raat men baitha ye geet sun raha hun....

kshama said...

Bahut pyara laga ye geet aapkee aawaaz me!

ज्योति सिंह said...

bahut khoob geet aur tumahara swar bhi

प्रवीण पाण्डेय said...

अहा..