Featured Post

28-चिठ्ठी ना कोई संदेस़

गीतकार :आनंद बक्षी संगीतकार :उत्तम सिंह चित्रपट :दुश्मन - 1998 Original Singer-Lata Presenting cover version -vocals-Alpana प्रस्त...

Aug 4, 2011

माना जनाब ने पुकारा नहीं












माना जनाब ने पुकारा नहीं
-----------------------------
यह चुलबुला सा गीत फिल्म-पेईंग गेस्ट से है और इस
गीत को लिखा था मजरूह सुल्तानपुरी जी ने और संगीतबद्ध किया सचिन देव बर्मन साहब ने.
आज चार अगस्त को किशोर दा का ८२ वाँ जन्मदिन है इसलिए सोचा
उन्हीं का गाया मस्ती भरा चुलबुला सा गीत गाया जाए..
मूल गीत में तीन अंतरे हैं लेकिन जो ट्रेक मिला उस में २ ही अंतरे के लिए जगह है.


Mp3 Play or Download here

12 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह

ताऊ रामपुरिया said...

कंसौल नही दिखाई दे रहा है, पता नही मेरे ब्राऊजर में गडबड है या क्या? देखियेगा.

रामराम

S.M.HABIB said...

मस्त, शोख चंचल गीत...
आपने गाया भी अच्छा...
सादर...

अल्पना वर्मा said...

@ Taau ji,yahan firefox mei sab theek dikh/chl rahaa hai.

ताऊ रामपुरिया said...

जी धन्यवाद, क्रोम में कुछ गडबड थी, फ़ायरफ़ोक्स में बिल्कुल सही चल रहा है.

बहुत ही सुंदर गाया है आपने, इन पुराने गानों को एक नई आवाज में सुनना बहुत सुंदर लगता है, शुभकामनाएं.

रामराम.

Anonymous said...

Alpana :)
Wonderfully sung. Loved the dholaki in the track. It gave it a different look. Enjoyed your take!

-Adwait Ranade

Anonymous said...

Alpana – Always loved your picks !lovely rendition !liked it a lot ! :)

loved your great throw and open throated rendition of this kishoreda classic !!

-Latha

daanish said...

once again,
a lovely and lively presentation !
the beauty of the original version has been well maintained Alpanaji....
congratulations.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') said...

मेरा मनपसंद गीत।

मजा आ गया।

------
कम्‍प्‍यूटर से तेज़...!
सुज्ञ कहे सुविचार के....

ज्योति सिंह said...

har geet man ko chhoo lene wala hai .old is gold ,karnpriya .

Kajal Kumar said...

वाक़ई ये सदा बहार गीत है. इसकी बात ही कुछ और है :)

अल्पना वर्मा said...

Dilip Kawathekar ji said-:

Very different experience.

You have given some masti like expressions in song, which has increased its listening value. you have now proved that you can attempt all genres of Music.

Singing a Male song is also very difficult for Ladies.That too Kishor da……

Again. Once must admire the courage to pick such songs by a lady. You have not only done justice, but shown us a way to expand our wings too in this genre of Music.