Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Apr 29, 2016

मेघा ओ रे मेघा

गीत--मेघा ओ रे मेघा
गीत और संगीत :  रविन्द्र जैन
मूल गायिका : हेमलता
कवर गायन : अल्पना वर्मा

मेघा ओ रे मेघा
तू तो जाए देस विदेस
क्यों न लाये उनके आवन का सन्देश
मेघा ओ रे मेघा

१. सूरत सजन की अनदेखी ,मूरत वो कुछ कुछ मन देखी
के  मैं इससे अधिक नहीं कुछ जानती ,बस उनके क़दमों की आहट को पहचानती हूँ ,
वायू ओ री वायू तू तो डोले देश विदेश
क्यू ना लाये पी के मिलन का संदेश
मेघा ओ रे मेघा तू जाये देश विदेश
2.पी के दरस को नैन मिले,दरस मिले तो चैन मिले
है अब अपना मिलन भरोसे  राम के
सुनैयना पी को ना देखा तो,नैना किस काम के
सजना मोरे सजना कित भटके देश विदेश
कहाँ  भेजूं मैं  अपने मन का संदेश
मेघा ओ रे मेघा तू तो जाये देश विदेश...........
Mp3 preview or play or download here

===========================================
=================================

No comments: