Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Apr 10, 2015

जाइए आप कहाँ जाएँगे--स्वर -अल्पना



फिल्म -मेरे सनम
मूल गायिका -आशा भोसले
गीतकार -मजरूह सुल्तानपुरी
संगीतकार-ओ.पी. नय्यर

यहाँ प्रस्तुत गीत में स्वर--अल्पना

गीत
-------
जाइए आप कहाँ जायेंगे
ये नज़र लौट के फिर आएगी
दूर तक आप के पीछे पीछे
मेरी आवाज़ चली जाएगी

आप को प्यार मेरा याद जहाँ आयेगा
कोई काँटा वही दामन से लिपट जायेगा

जब उठोगे मेरी बेताब निगाहों की तरह
रोक लेगी कोई डाली मेरी बाहों की तरह

देखिये चैन मिलेगा ना कही दिल के सिवा
आप का कोई नहीं, कोई नहीं दिल के सिवा

जाइएआप कहाँ जायेंगे
ये नज़र लौट के फिर आएगी
--------
Download or Play here Mp3

=================
Same song's link on  youtube
=============

5 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल शनिवार (11-04-2015) को "जब पहुँचे मझधार में टूट गयी पतवार" {चर्चा - 1944} पर भी होगी!
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Kavita Rawat said...

बड़ा दिलकश गाना है यह .....
प्रस्तुतीकरण के लिए धन्यवाद!

ज्योति सिंह said...

Old is gold .beautiful

हिमकर श्याम said...

दूर तक आप के पीछे पीछे मेरी आवाज़ चली जाएगी... सुननेवालों पर बहुत देर तक इस खूबसूरत गीत और गायिकी का असर रहेगा। गीत और गायन दोनों ही लाजवाब। आपकी आवाज़ में इस गीत को सुनना बहुत अच्छा लगा।

अल्पना वर्मा said...

आप सभी ने गीत सुना और सराहा इसके लिए तहे दिल से आभार !