Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Mar 20, 2015

पानी पानी रे ..फिल्म-माचिस -स्वर -अल्पना

Tabbu

गीत -पानी पानी रे ..
संगीत -विशाल भरद्वाज
गीतकार-गुलज़ार ,मूल गायिक -लता जी
यहाँ प्रस्तुत कवर संस्करण में स्वर अल्पना का है.
गीत के बोल -
----------------
पानी पानी रे खारे पानी रे
पानी पानी रे खारे पानी रे
नैनों में भर जा
नींदें खाली कर जा

पानी पानी इन पहाड़ों के ढलानों से
उतर जाना
धुंआ धुंआ कुछ वादियाँ भी आएँगी
गुज़र जाना
इक गाँव आएगा  मेरा घर आएगा
जा मेरे  घर जा..
नींदें खाली कर जा..

ये रुदाली जैसी रातें जगरातों में
बिता देना
मेरी आँखों में जो बोलेन मीठे पाखी तो
उड़ा देना
बर्फों में लगे मौसम पिघले
मौसम हरे कर जा
नींदें खाली कर जा....

पानी पानी रे खारे पानी रे
----------------------------
 Mp3 file Can be played or previewed or downloaded here
Song Player--:

======================

================

1 comment:

हिमकर श्याम said...

बहुत ख़ूब, सुंदर गायिकी, दर्द भरी आवाज़…तब्बू पर आपकी अच्छी लगी...