Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Feb 6, 2012

जब दिल ही टूट गया[ स्वर-दिलीप जी ]

जब दिल ही टूट गया
संगीत--नौशाद साहब
फ़िल्म -'शाहजहाँ'
गीत- मजरूह सुल्तानपुरी

स्वर- श्री दिलीप कवठेकर जी

No comments: