Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Jan 14, 2011

५७-ओ सजना बरखा ..'[Cover song]

बहुत दिनों से  कुछ गाया ही नहीं जा सका है. न ही अब पर्याप्त समय मिल पाता है .
प्रस्तुत  गीत फिल्म परख से है और इसे मैंने शोभना चौरे जी के कहने पर जून महीने में[६ महीने पहले ] रिकॉर्ड किया था.

अपनी  क्षमता में जैसा भी  गा सकी हूँ आप के समक्ष  यह कवर संस्करण  प्रस्तुत   है.





Download or preview here MP3

12 comments:

प्रवीण पाण्डेय said...

वाह, बहुत सुन्दर।

Mukesh Kumar Sinha said...

waise nahi aapko blog-kokila ka award mila hai..:)

Kala Vijay said...

nice singing alpana,your selection of songs are really fantastic.
not an easy song.

Learn By Watch said...

क्या बात है - मैंने ३ बार सुना

बहुत - बहुत - बहुत मधुर आवाज है

प्रिय,

भारतीय ब्लॉग अग्रीगेटरों की दुर्दशा को देखते हुए, हमने एक ब्लॉग अग्रीगेटर बनाया है| आप अपना ब्लॉग सम्मिलित कर के इसके विकास में योगदान दें - धन्यवाद|

अपना ब्लॉग, हिन्दी ब्लॉग अग्रीगेटर
अपना खाता बनाएँ
अपना ब्लॉग सम्मिलित करने के लिए यहाँ क्लिक करें

शोभना चौरे said...

अल्पनाजी
"देर से ही सही "नहीं , नहीं बिलकुल समय के अनुसार ही अपना वादा निभाया है आपने निशब्द हूँ धन्यवाद के लिए ह्रदय से अंतर्मन से प्यार |
बहुत बहुत धन्यवाद मेरी फरमाइश पूरी करने के लिए और इतना सुन्दर और इतना मीठा गीत गाने के लिए बहुत बहुत आभार |
क्योकि यह गाना बहुत ही कठिन है गाना उसको आपने बहुत ही सधे हुए स्वरों में गाया है |
शुभकामनाये |
शोभना

daanish said...

गीत
बहुत अच्छा है
कोशिश भी बहुत अच्छी की है
.....

शरद कोकास said...

बहुत सुन्दर

आशीष मिश्रा said...

सुन्दर

दिलीप कवठेकर said...

हमेशा की तरह बढियां.

आप के गले में ’हरकतें ’ शोभा दे रही हैं.

आपको ये दोनों गानें भी ट्राय करना चाहिये-

तू जो मेरे सुर में...

जब दीप जले आना....

Satish Chandra Satyarthi said...

बड़ा ख़ूबसूरत गाया है आपने...

Rajesh Kumar 'Nachiketa' said...

लाजवाब....अद्भुत स्वर पाई है आपने.....

Suman said...

nice