Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Sep 7, 2015

नाम गुम जाएगा ....


[फ़ोटो क्रेडिट -श्री पी.एन.सुब्रामनियन जी]
 गीत के बोल :
----------------

नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा
मेरी आवाज़ ही पहचान है, गर याद रहे...

1.वक्त के सितम कम हसीन नहीं, आज है यहाँ कल कही नहीं
वक्त से परे अगर मिल गए कहीं , मेरी आवाज़ ही ...

2.जो गुज़र गई, कल की बात थी, उम्र तो नहीं एक रात थी
रात का सिरा अगर फिर मिले कही, मेरी आवाज़ ही ...

3.दिन ढले जहाँ रात पास हो, जिंदगी की लौ ऊँची कर चलो
याद आए गर कभी जी उदास हो, मेरी आवाज़ ही ...



फिल्म -किनारा

गीतकार -गुलज़ार
संगीत : राहुलदेव बर्मन
मूल गायक - लता जी और भूपेंद्र
Cover Version by Alpana and Dr. Sridhar Saxena
==============================

Mp3 Download or Play
==============================

===============================

1 comment:

हिमकर श्याम said...

बेहतरीन गीत। आप दोनों ने इसे बहुत अच्छे से गाया है। बधाई और आभार।