Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Nov 9, 2011

ये समा, समा है ये प्यार का


ये समा, समा हैं ये प्यार का
फिल्म - जब जब फूल खिले
मूल गायिका - लता मंगेशकर

कवर प्रस्तुति-अल्पना


ये समा, समा हैं ये प्यार का
किसी के इंतजार का
दिल ना चुरा ले कही मेरा, मौसम बहार का

बसने लगे आखों में कुछ ऐसे सपने
कोई बुलाए जैसे, नैनों से अपने
नैनों से अपने
ये समा, समा हैं दीदार का, किसी के इंतजार का
दिल ना चुरा ले कही मेरा, मौसम बहार का

मिल के ख़यालों में ही, अपने बलम से
नींद गवाई अपनी, मैने कसम से
मैने कसम से
ये समा, समा है  खुमार का, किसी के इंतजार का
दिल ना चुरा ले कही मेरा, मौसम बहार का
                  
Download or Play here 
कवर संस्करण - स्वर -अल्पना

6 comments:

M VERMA said...

सुमधुर और सुन्दर गीत

प्रवीण पाण्डेय said...

बेहतरीन गीत..

आशा जोगळेकर said...

वाह, इतना खूबसूरत गीत अपनी आवाज़ में सुनाने का शुक्रिया ।

Anonymous said...

thnx Alpana... itni jaldi meri farmaish poori kar di. Bahot khoobsoorat gaya.. really enjoyed it

-safeer

Rizwan said...

Start to finish fully enjoyed.....and seems you too enjoyed it while recording. Very scintillating.

dinkesh1 said...

Nice Alpana