Featured Post

28-चिठ्ठी ना कोई संदेस़

गीतकार :आनंद बक्षी संगीतकार :उत्तम सिंह चित्रपट :दुश्मन - 1998 Original Singer-Lata Presenting cover version -vocals-Alpana प्रस्त...

Feb 23, 2010

39-ये लो मैं हारी



ये लो मैं हारी पिया

चित्रपट : आर पार
संगीतकार : ओ. पी. नय्यर
गीतकार : मजरूह सुलतान पुरी
मूल गायिका : गीता दत्त
Starring: Shyama
---------------------------------
[Posted song is not original]

ये लो मैं, ये लो मैं
ये लो मैं हारी पिया,हुई तेरी जीत रे
काहे का झगड़ा बालम,नई नई प्रीत रे
ये लो मैं...

नये नये दो नैन मिले हैं,पहली मुलाकात है
मिलते ही तुम रूठ गये जी..ये भी कोई बात है,
जाओ जी माफ़ किया,तू ही मेरा मीत रे
काहे का झगड़ा ...

हुई तिहारी संग, चलोजी बैयाँ मेरी थामके
बंधी बलम क़िस्मत की डोरी संग तेरे नाम के
लड़ते ही लड़ते मौसम जाये नहीं बीत रे
काहे का झगड़ा ...

चले किधर को बोलो बाबू सपनों को लूट के
हाय राम जी रह नहीं जाए दिल मेरा टूटके,
ये लो मैं हारी पिया,हुई तेरी जीत रे
काहे का झगड़ा बालम,नई नई प्रीत रे

ये लो मैं हारी पिया ...

Cover Song-sung by Alpana

Download or Play

13 comments:

Suman said...

nice

डॉ. मनोज मिश्र said...

बहुत -बहुत सुंदर.

सुलभ § सतरंगी said...

बहुत दिनों बाद ये गीत सुन मन प्रसन्न हुआ...

निर्मला कपिला said...

अलपना जी मज़ा आ गया गीत सुन कर । बहुत सुरीली आवाज़ है आपकी। शुभकामनायें

'अदा' said...

accha laga, Alpana ji
dhanyawaad.

M VERMA said...

सुन्दर गीत
मधुर

Amitraghat said...

"अच्छा गाया आपने.....।"
प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

दिलीप कवठेकर said...

वाकई में आपकी आवाज़ का टिंबर गीता दत्त जी से मिलता है.

इस गाने में आपनें गीताजी की शोखियां, चुलबुलापन और मस्ती हू ब हू रेंडर की है, जो इस गीत का यू एस पी है.

एक और बात. इस में मुरकीयां भी अच्छी है, और स्वरों की रेंज भी खूबसूरती से मेनेज की है.

बधाईयां स्वीकार करें!

ताऊ रामपुरिया said...

गीत का चयन बहुत ही उम्दा है. दिलीप जी की टिप्पणी पढते हुये मैने दुबारा ध्यान से सुना...वाकई आप मुर्कियां बहुत अच्छी लेजाती हैं...और यही आपके गायन को एक अलग अंदाज देता है. बहुत खूबसूरत. शुभकामनाएं.

रामराम.

Amitraghat said...

"धन्यवाद आपका अल्पना जी ..." (पेशल=सुन्दर, मनोमुग्धकारी, शबल=रंग-बिरंगा)
प्रणव सक्सैना amitraghat.blogspot.com

डॉ .अनुराग said...

गीता जी का एक खास अंदाज था .जिसे दिलीप जी ने सही पकड़ा है ....

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" said...

अल्पना जी, हमें तो आपके इस ब्लाग का मालूम ही नहीं था...आज अचानक से आ गये तो पता चला...
गीत वाकई बहुत बढिया गाया है आपने...आपकी आवाज में सुनना अच्छा लगा..

kshama said...

Holi kee anek shubhkamnayen!