Featured Post

सजनवा बैरी हो गए हमार...

सजनवा बैरी हो गए  फिल्म-तीसरी कसम  मूल गायक-मुकेश प्रस्तुत गीत कवर संस्करण है. स्वर-अल्पना वर्मा  गीत के बोल-   सजनवा बैरी हो ग...

Oct 14, 2017

तुम सो जाओ मैं गाऊँ !

तुम सो जाओ मैं गाऊँ !

कवयित्री- महादेवी वर्मा  जी
कविता पाठ : अल्पना वर्मा

तुम सो जाओ मैं गाऊँ ! मुझको सोते युग बीते, तुमको यों लोरी गाते; अब आओ मैं पलकों में स्वप्नों से सेज bichhaun ! प्रिय ! तेरे नभ-मंदिर के मणि-दीपक बुझ-बुझ जाते; जिनका कण कण विद्युत है मैं ऐसे प्राण जलाऊँ ! अपनी असीमता देखो, लघु दर्पण में पल भर तुम; मैं क्यों न यहाँ क्षण क्षण को धो धो कर मुकुर बनाऊँ ? ----------
शेष कविता :- क्यों जीवन के शूलों में प्रतिक्षण आते जाते हो ? ठहरो सुकुमार ! गला कर मोती पथ में फैलाऊँ ! पथ की रज में है अंकित तेरे पदचिह्न अपरिचित; मैं क्यों न इसे अंजन कर आँखों में आज बसाऊँ ! जब सौरभ फैलाता उर तब स्मृति जलती है तेरी; लोचन कर पानी पानी मैं क्यों न उसे सिंचवाऊँ । इन भूलों में मिल जाती, कलियां तेरी माला की; मैं क्यों न इन्ही काँटों का संचय जग को दे जाऊँ ? हंसने में छुप जाते तुम, रोने में वह सुधि आती; मैं क्यों न जगा अणु अणु को हंसना रोना सिखलाऊँ !
======================

2 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत सुन्दर!!

Safeer Ahmad said...

Every line is heart touching .. sung so nicely by you ..