Featured Post

एक लड़की भीगी भागी सी ...स्वर -अल्पना

गीतकार-मजरूह सुल्तानपुरी

Jul 1, 2014

ओ घटा साँवरी....


फिल्म-अभिनेत्री
मूल गायिका -लता मंगेशकर
संगीतकार-लक्ष्मीकांत -प्यारेलाल
गीतकार -मजरूह सुल्तानपुरी

गीत -
ओ घटा सांवरी, थोड़ी थोड़ी बावरी, हो गयी हैं बरसात क्या!
हर साँस है बहकी हुई, अब की बरस है ये बात क्या!
हर बात है बहकी हुई, अब की बरस  है ये बात क्या!

1-पा के अकेली मुझे, मेरा आँचल मेरे साथ उलझे
छू ले अचानक कोई, लट में ऐसे मेरा हाथ उलझे
क्यो रे बादल तू ने छूआ  मेरा हाथ क्या?

2-आवाज़ थी कल यही, फिर भी ऐसे लहकती ना देखी
पग में थी पायल मगर, फिर भी ऐसे छनकती ना देखी
चंचल हो गये घुँगरू मेरे रातोरात क्या!

3-मस्ती से बोझल पवन, जैसे साया कोई मन पे डोले
बरखा की हर बूँद पे, थरथरी सी मेरे तन पे डोले
पागल मौसम जा रे तू, लगा मेरे साथ क्या!
 ओ घटा सांवरी, ......
-------------------------
Cover song---Vocals- Alpana
=================== MP3 download here


=================

7 comments:

हिमकर श्याम said...

हमेशा की तरह लाजवाब गीत. आपकी आवाज़ में इसे सुनना बेहद सुकून भरा रहा. इस मौसम की तरह खुशनुमा. धन्यवाद...

Safeer Ahmad said...

Great pick ..my favt song .. just fantastic singing.. the modulations and variations are not easy .. but you sailed through so smoothly with nice control on vocals and breath .. so soothing .. liked it to the core :)

अल्पना वर्मा said...

@हिमकर जी ,बहुत -बहुत धन्यवाद !देखिये बारिश तो हो नहीं रही इसलिए सोचा बारिश का गाना ही गा लिया जाए ..शायद अब बारिश हो जाए!
@Safeer ji, thanks for the feedback. I prepared this song for the ''rain theme.'.video is also ready.

हिमकर श्याम said...

यहाँ मौसम खुशनुमा हो गया है. पिछले कुछ दिनों से छिटपुट बारिश हो रही है. कभी-कभी तो झमाझम भी. ऐसे में इस गीत को सुनना आनन्ददायक रहा. यही प्रार्थना है की सांवरी घटा जल्द उधर भी बरसे.
ब्लॉग सेतु की जानकारी देने के लिए आभार. ब्लॉग रजिस्टर्ड कराने की कोशिश की, मगर सफलता नहीं मिली. कहीं कुछ दिक्कत है. यूँही अपने विचारों और सुझावों से अवगत कराती रहें, धन्यवाद...

Prasanna Badan Chaturvedi said...

बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@दर्द दिलों के

दिलीप कवठेकर said...

:)

sanjay verma said...

बहुत खूब ...अल्पना जी ..