Featured Post

28-चिठ्ठी ना कोई संदेस़

गीतकार :आनंद बक्षी संगीतकार :उत्तम सिंह चित्रपट :दुश्मन - 1998 Original Singer-Lata Presenting cover version -vocals-Alpana प्रस्त...

Jan 3, 2014

तू इस तरह से मेरी ज़िंदगी में..


फिल्म-आप तो ऐसे न थे
गीत-निदा फ़ाज़ली
संगीत-उषा खन्ना
मूल गायिका-हेमलता
प्रस्तुत-कवर संस्करण

गीत के बोल-
तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है ,
जहाँ भी जाऊं ये लगता है तेरी महफ़िल है.

१-ये आसमान ये बादल ये रास्ते ये हवा ,
हरेक चीज़ है अपनी जगह ठिकाने पे ,
कई दिनों से शिकायत नहीं ज़माने से,
ये जिंदगी है सफ़र तू सफ़र की मंजिल है,
जहाँ भी जाऊं ये लगता है तेरी महफ़िल है,

२-हरेक फूल किसी याद सा महकता है-2
तेरे ख्याल से जागी हुई. फिजायें हैं ,
ये सब्ज़ पेड़ हैं या .प्यार की. दुआएं हैं,
तू पास हो के नहीं फिर भी तू मुकाबिल है,
जहाँ भी जाऊं ये लगता है तेरी महफ़िल है

३-हरेक शै है मोहब्बत के नूर से रोशन -२
ये रोशनी जो न हो ,जिंदगी अधूरी है,
राहे वफ़ा में कोई हमसफ़र ज़रूरी है.
ये रास्ता कहीं तनहा कटे तो मुश्किल है,
जहाँ भी जाऊं ये लगता है तेरी महफ़िल है ..

स्वर  - अल्पना 
MP 3 download or preview here
Play-

=============================================
[please use headphones for better sound]
===========================================
=======================================

10 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही लाजवाब, शुभकामनाएं.

रामराम.

sehba jafri said...

purane din zinda kr diye apne to! thnx :)

Alpana Verma said...

:@Sehba ji,Dhnyawaad.

Alpana Verma said...

@Dhnyawaad Sir.

Ramakant Singh said...

नव वर्ष की शुभकामना
माँ शारदा की कृपा बनी रहे
यूँ ही गुनगुनाती रहो

हिमकर श्याम said...

यह मेरे पसंदीदा गीतों में एक है. आपने इस गीत को बखूबी निभाया है. आप तो ऐसे न थे का यह सदाबहार गीत हेमलता, रफ़ी और मनहर उदास तीनों महान गायकों की आवाज में सुनना अच्छा लगता है. इस सुरीले गीत के लिए आभार,
हिमकर श्याम
http://himkarshyam.blogspot.in

अनूप शुक्ल said...

सुन्दर!

arvind mishra said...

Hats off for your this passion!

Alpana Verma said...

Geet ko sunNe aur sarahne ke liye Aap Sabhi ka bahut -bahut shukriya.

राजीव कुमार झा said...

बहुत सुंदर.
मेरे पसंदीदा गीतों में से एक.