Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

May 1, 2013

ओ हंसिनी ....स्वर - अल्पना



फिल्म-ज़हरीला इंसान
गीतकार -
संगीत- राहुलदेव बर्मन
ओ हंसिनी मेरी हंसिनी, कहा उड़ चली,
मेरे अरमानो के पंख लगा के कहा उड़ चली..

1-आ जा मेरी सांसो मे महक रहा रे तेरा गजरा,
 आ जा मेरी रातो मे लहेक रहा रे तेरा कजरा..
ओ हंसिनी ....

2-देर से लहरो मे कमल संभाले हुए मन का,
जीवन ताल मे भटक रहा रे तेरा हंसा..
ओ हंसिनी .............

किशोर कुमार का गाया हुआ यह गीत मेरे स्वर में सुनिए-



Mp3 Download or Play Here