Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Dec 9, 2009

30-रात और दिन दिया जले


Film-रात और दिन [1968]
Music director-Shankar Jaikishan
Lyrics-Shailendra
Original Singer-Lata[picturised on Nargis]
'रात और दिन दिया जले ,मेरे मन में फिर भी अंधियारा है,
जाने कहाँ है वो साथी ,तू जो मिले जीवन उजीयारा है'
खुद नहीं जानू ढूँढे किस को नज़र, कौन दिशा है मेरे मन की डगर,
कितना अजब है दिल का सफ़र ,नदिया में आए जाए जैसे लहर!'
Play or download Mp3

No comments: