Featured Post

खूब लड़ी मर्दानी ....झाँसी की रानी कविता -

झाँसी  की रानी -कविता पाठ =================== -[सुभद्रा कुमारी चौहान जी की लिखी ] Kavita Paath: Alpana Verma सिंहासन हिल उठे...

Feb 13, 2017

दिवाना हुआ बादल -फिल्म : कश्मीर की कली (1964)

--------------------

फिल्म : कश्मीर की कली (1964)
संगीतकार : ओ.पी.नैय्यर
गीतकार : एस.एच.बिहारी
मूल गायक : मो.रफ़ी और आशा भोसले
=======================

 =======================
Present Version Sung by Safeer & Alpana
=======================
MP3 Play or Download here
-------------------------------------------

गीत के बोल -

ये देख के दिल झूमा
ली प्यार ने अंगड़ाई
दिवाना हुआ बादल
सावन की घटा छाई
ये देखके दिल झूमा
ली प्यार ने अंगड़ाई
दीवाना हुआ बादल...

१.ऐसी तो मेरी तक़दीर न थी
तुमसा जो कोई महबूब मिले
दिल आज खुशी से पागल है
ऐ जान-ए-वफ़ा तुम खूब मिले
दिल क्यूँ ना बने पागल
क्या तुमने अदा पाई
ये देखके दिल झूमा...

2.जब तुमसे नज़र टकराई सनम
जज़्बात का इक तूफ़ान उठा
तिनके की तरह मैं बह निकली
सैलाब मेरे रोके न रुका
जीवन में मची हलचल
और बजने लगी शहनाई
ये देखके दिल झूमा...

3.है आज नये अरमानों से
आबाद मेरी दिल की नगरी
बरसों से खिज़ां का मौसम था
वीरान बड़ी दुनिया थी मेरी
हाथों में तेरा आँचल
आया जो बहार आई
ये देखके दिल झूमा...
==================
==================

No comments: